क्या आप जानते हैं भारत में गुलामी के प्रतीकों के बारे में – भाग १

0
198
Rashtrapati bhavan

भारत सदियों तक मुस्लिम आक्रांताओं, पुर्तगालियों एवं अंग्रेजों का गुलाम रहा है। लेकिन आज़ादी के इतने सालों के बाद भी भारत में कई ऐसे स्मारक हैं, जो हमे गुलामी की याद दिलाते है। इन्ही स्मारकों के बारे में आपको जानकारी दी जा रही है। इस भाग में हम आपको बताएँगे, उन स्मारकों के नाम जो अंग्रेजों के द्वारा बनवाये गए हैं :-

राष्ट्रपति भवन :-

Rashtrapati bhavan

राष्ट्रपति भवन भारत के राष्ट्रपति का आधिकारिक निवास स्थान है। डिज़ाइन भी एडवर्ड लुटियन्स के द्वारा तैयार किया गया था। स्वतंत्रता के पहले यह भारत के वाइसराय का निवास स्थान हुआ करता था।

इंडिया गेट, दिल्ली :-

India Gate

इंडिया गेट भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। प्रथम विश्व युद्ध में अंग्रेजों की ओर से लड़ते हुए शहीद हुए भारतीय सैनिकों की याद में बनाये गए इस स्मारक का निर्माण 1931 में अंग्रेजों के द्वारा किया गया। इसका डिजाइन सर एडवर्ड लुटियन्स ने तैयार किया था। अब प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस पर निकलने वाली परेड राष्ट्रपति भवन से शुरू होकर इण्डिया गेट से होते हुए लाल किले तक पहुँचती है।

संसद भवन, दिल्ली :-

Parliament-Houseसंसद भवन नई दिल्ली में स्थित है। संसद भवन का डिज़ाइन भी एडवर्ड लुटियन्स एवं हर्बर्ट बेकर के द्वारा तैयार किया गया था। इसका उद्घाटन समारोह 18 जनवरी 1927 के दिन तत्कालीन वाइसराय एवं गवर्नर-जनरल इरविन के द्वारा किया गया था।

गेटवे ऑफ इंडिया, मुंबई :-

Gateway of India

गेटवे ऑफ इंडिया महाराष्ट्र के मुंबई में समुद्र तट पर स्थित स्मारक है। इसे १९११ में इंग्लैंड के किंग जॉर्ज पंचम एवं रानी मैरी के भारत दौरे की याद में 1911 में बनवाया गया था, यह सन् 1924 में बन कर तैयार हुआ। इसका वास्तुशिल्पी जॉजॅ विंटैट नमक अंग्रेज था।

विक्टोरिया मेमोरियल, कोलकाता :-

Victoria Memorialविक्टोरिया मेमोरियल पश्चिम बंगाल के कोलकाता में स्थित है। यह स्मारक अंग्रेजों द्वारा 1906 से 1921 के मध्य इंग्लैंड की रानी विक्टोरिया के नाम पर बनाया गया। इसका वास्तुशिल्पी विलियम एमर्सन नमक अंग्रेज था। वर्तमान में यह एक म्यूजियम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here