क्या आप जानते हैं भारत में गुलामी के प्रतीकों के बारे में – भाग ३

0
173
karimnagar

भारत सदियों तक मुस्लिम आक्रांताओं, पुर्तगालियों एवं अंग्रेजों का गुलाम रहा है। लेकिन आज़ादी के इतने सालों के बाद भी भारत में कई ऐसे शहर हैं, जो आज भी गुलामी के प्रतीकों को संजो कर रखा है। इन्ही शहरों के बारे में आपको जानकारी दी जा रही है। इस भाग में हम आपको बताएँगे, उन शहरों के नाम जो मुस्लिम आक्रांताओं की गुलामी के प्रतीक हैं :-

करीमनगर :-

karimnagar

करीमनगर तेलंगाना राज्य का शहर है। करीमनगर की स्थापना निज़ामों के एक किलेदार सईद करीमुद्दीन के द्वारा की गई थी तथा उसी के नाम पर इसका नाम करीमनगर रखा गया।

सिकंदराबाद :-

secunderabad

सिकंदराबाद, जिसे हैदराबाद के जुड़वा शहर के नाम से जाना जाता है, भी तेलंगाना राज्य का शहर है। सिकंदराबाद का नाम आसफ़ जाही वंश के तीसरे निज़ाम सिकंदर शाह के नाम पर रखा गया।

आदिलाबाद :-

adilabad

आदिलाबाद भी तेलंगाना राज्य का शहर है। आदिलाबाद का नाम आदिल शाही वंश के शासक यूसुफ आदिल शाह के नाम पर रखा गया।

जौनपुर :-

jaunpurजौनपुर उत्तर प्रदेश का एक शहर है। जौनपुर शहर की स्थापना 1359 में फ़िरोज़ शाह तुगलक के द्वारा अपने भाई मुहम्मद बिन तुगलक, जिसे जौना खान भी कहा जाता है, की याद में की गई थी था जौना खान के नाम पर इस शहर का नाम जौनपुर रखा गया।

अफजलपुर :-

afzalpur

अफजलपुर कर्नाटक के गुलबर्ग जिले में स्थित एक शहर है। इसकी स्थापना आदिल शाह के कमांडर अफ़ज़ल खान के द्वारा की गयी थी। ये वही अफ़ज़ल खान है, जिसका वध छत्रपति शिवाजी महाराज ने किया था।

महमदावाद :-

Mehamadabad

महमदावाद गुजरात राज्य के खेड़ा जिले में स्थित है। महमदावाद की स्थापना अहमद शाह के पोते महमूद बेगड़ा के द्वारा की गई थी तथा उसी के नाम पर इस शहर का नाम महमदावाद रखा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here